Explore

Search
Close this search box.

Search

July 15, 2024 10:27 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

प्रिंसीपल विक्रम सिंह ने बीएचयू बनारस का किया भ्रमण

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email


हाथरस-18 जून। भारत सरकार की महत्वाकांक्षी राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत सीबीएसई के कौशल शिक्षा विभाग द्वारा दो दिवसीय एक्स्पोजर (भ्रमण) का कार्यक्रम एशिया में प्रसिद्ध भारत की काशी हिंदू विश्वविद्यालय स्थित आईआईटी में कराया गया।
यह कार्यक्रम भारत देश के सीबीएसई विद्यालयों के प्रधानाचार्यों के लिए ही था। इस कार्यक्रम में संपूर्ण देश से 47 चयनित प्रधानाचार्यों ने आमंत्रण के बाद प्रतिभाग किया। जिसमें जिले के सुप्रसिद्ध गणितज्ञ व श्री राधा बिहारी पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल विक्रम सिंह ने भी प्रतिभाग किया। यह हाथरस जिले के लिए अत्यंत उत्कृष्ट एवं अतुलनीय उदाहरण है।
कार्यक्रम में पूरे अलीगढ़ मंडल से विक्रम सिंह ने ही प्रतिभाग किया। प्रतिभागियों में उत्तर प्रदेश के अलावा दिल्ली, झारखंड, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, देहरादून, मध्य प्रदेश, केरला, बिहार, हरियाणा, उड़ीसा, राजस्थान, पश्चिम बंगाल आदि राज्यों से भी शामिल थे।
सीबीएसई द्वारा अपने विद्यालयों में कौशल आधारित शिक्षा को मजबूत करने के लिए इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किया जा रहे हैं जो कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का ही एक अंग है। हाथरस लौटने पर प्रधानाचार्य विक्रम सिंह ने बताया कि भारत की सुप्रसिद्ध आईआईटी काशी हिंदू विश्वविद्यालय वाराणसी में दो दिन व्यतीत करना एक अत्यंत सुखद एवं ज्ञानवर्धक अनुभव है।
विदित रहे कि विक्रम सिंह इससे पूर्व अनेकों राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय कार्यशालायें आयोजित भी कर चुके हैं तथा प्रतिभाग भी किया है। विक्रम सिंह के उत्कृष्ट कार्य के लिए कई बार उन्हें सम्मानित भी किया जा चुका है। इन दो दिनों में बीएचयू के विभिन्न विभागों एवं वर्कशॉप का भ्रमण भी कराया गया। जिसमें इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, वेल्डिंग इंजीनियरिंग, ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग, त्रिआयामी प्रिंटिंग, ड्रोन तकनीकी, फाउंड्री, काष्ठ कला तकनीकी आदि मुख्य थे। इसी दौरान काशी हिंदू विश्वविद्यालय के संस्थापक श्री मदन मोहन मालवीय द्वारा प्रयोग की गई रोल्स-रॉयल कार तथा उसके इंजन की कार्य प्रणाली को भी समझाया गया। विक्रम सिंह ने सीबीएसई के इस कदम की प्रशंसा करते हुए बताया कि छात्रों को एकेडमिक ज्ञान के साथ-साथ कौशल आधारित क्षमताओं को भी विकसित करना चाहिए। जिससे वह नौकरी ढूंढने वाले न बने बल्कि नौकरी देने वाले बने। कार्यक्रम के दौरान आईआईटी के सुप्रसिद्ध प्रोफेसर्स द्वारा व्याख्यान भी दिए गए।

dainiklalsa
Author: dainiklalsa

Leave a Comment

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर