Explore

Search
Close this search box.

Search

June 20, 2024 4:28 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

भगवान परशुराम जी का महाभिषेक, पूजन व हवन यज्ञ कर धूमधाम से मनाया जन्मोत्सव

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

श्री ब्राह्मण महासभा के तत्वावधान में विप्रकुल शिरोमणि के जन्मोत्सव अक्षय तृतीया पर

हाथरस-10 मई। श्री ब्राह्मण महासभा के तत्वावधान में विप्रकुल शिरोमणि एवं भगवान विष्णु जी के छठवें अवतार भगवान श्री परशुराम जी का जन्मोत्सव अक्षय तृतीया पर्व भारी धूमधाम के साथ मनाया गया और इस मौके पर भगवान परशुराम जी का महाभिषेक-पूजन व हवन यज्ञ भी किया गया।
जितक्रोधो गुडाकेशो द्युतिमानारिमर्दनरू। रेणुकातनयरू साक्षादजितोऽव्यय एव च।। आदि श्लोक और मंत्रोच्चारण के साथ विप्र कुलभूषण, विष्णु अवतारी भगवान श्री परशुराम के जन्मोत्सव पर्व पर माहौल सनातनी जय घोषों से गुंजायमान हो उठा।
आज श्री ब्राह्मण महासभा के तत्वावधान में शहर के दिल्ली वाला मौहल्ला स्थित मंदिर श्री राधा मनोहर पर रेणुका नंदन भगवान श्री परशुराम जी महाराज का महा अभिषेक पूजन-अर्चन व हवन यज्ञ किया गया। श्री ब्राह्मण महासभा के तत्वावधान में हुऐ महाभिषेक पूजन में आचार्य मनोज द्विवेदी व पं. महेश कुमार त्रिपाठी, पं. कमल वशिष्ठ, पं. गौरव शर्मा, पं. रविंद्र शर्मा व अन्य विद्वान विप्रजनों के सानिध्य में वेदपाठियों ने मंत्रोच्चारण किया। जबकि मुख्य यजमान के रुप में पं. मदन मोहन गौड अध्यक्ष ब्राह्मण महासभा थे। जबकि यजमान के रूप में मुख्य संयोजक पं. सुभाष उपाध्याय, संयोजक बालकिशन शर्मा बालो गुरु, पं. के.के. रावत चमरूआ वाले, पं. सचिन गौड, पं. डॉ. विकास शर्मा, पं. मुन्नालाल दीक्षित, मदन गोपाल रावत, पं. बृजेश वशिष्ठ, संजीव पंडित, मुकेश पंडित, पं. अतुल शर्मा चैपाइया वाले, पं. अरविंद वशिष्ठ, पं. अवधेश शर्मा दर्शना, राजू शर्मा, पं. प्रदीप गौतम, पं. नवीन ,अजीत शर्मा, राजू कौशिक, पं. धीरेन्द्र पाठक, पं. प्रशांत शर्मा, पं.बबलू पाराशर, पं. कुलदीप वशिष्ठ, पं.सौरभ शर्मा, पवन पंडित, पं. मनोज पाठक, पं. अशोक पचैरी, हिमांशु गौड आदि पूजन में शामिल थे।
इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि रामायण, महाभारत, भागवत पुराण, कल्कि पुराण, हरिवंश पुराण, अध्यात्म रामायण इत्यादि विभिन्न ग्रंथों में भगवान परशुराम अवतार की कथा का वर्णन मिलता है। भगवान विष्णु के 10 अवतारों में भगवान परशुराम को छठा अवतार माना गया है। परशुराम जी को विष्णु जी का आवेशावतार भी कहा जाता है। उन्होंने यह भी बताया कि भगवान परशुराम विष्णु और शिव का संयुक्त अवतार माना गया है। शिव से उन्होंने संहार लिया और विष्णु से उन्होंने पालक के गुण प्राप्त किए।
इससे पूर्व भगवान परशुराम जी का अभिषेक-पूजन के बाद भगवान श्री परशुराम जी की भव्य आरती भी की गई और प्रसादी का वितरण किया गया। देर दोपहर तक माहौल जय घोषों से गुंजायमान रहा।

dainiklalsa
Author: dainiklalsa

Leave a Comment

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर