Explore

Search
Close this search box.

Search

June 16, 2024 11:01 pm

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

गोविंद की भक्ति में डूबा शहरःविशाल रथयात्रा में उमड़ा जनसैलाब

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

उत्तर भारत में प्रसिद्ध ऐतिहासिक श्री गोविंद भगवान के 113 वें रथयात्रा महोत्सव की रही धूम

दर्जनों झांकियों व आधा दर्जन बैण्डों ने मचाई धूम: गोविंद जी व माता प्रिया जी की जगह-जगह उतारी आरती: पुष्प वर्षा


हाथरस-28 मार्च। उत्तर भारत में प्रसिद्ध ऐतिहासिक व वाष्र्णेय समाज द्वारा संचालित मंदिर श्री गोविंद भगवान के 11 दिवसीय महोत्सव के आठवें दिन रथयात्रा महोत्सव के मुख्य आकर्षण भगवान श्री गोविंद जी एवं माता प्रिया जी की विशाल रथयात्रा शोभायात्रा भारी धूमधाम एवं हर्षोल्लास तथा हजारों भक्तों की भीड़ के साथ दर्जनों अद्भुत एवं मनमोहक झांकियां तथा कई बैण्डों के साथ शहर भर में निकाली गई। विशाल रथयात्रा मार्ग पर भक्तगणों ने रंगोली बनाकर भगवान गोविंद जी एवं माता प्रिया का पुष्प वर्षा कर स्वागत व अभिनंदन किया एवं आरती उतार कर भोग लगाया। ठाकुर जी के नगर भ्रमण के दौरान ऐसा लग रहा था कि पूरा हाथरस नगर भक्ति में रम गया है और पूरे शहर का माहौल गोविंदमय बन गया।

उत्तर भारत में प्रसिद्ध एवं ऐतिहासिक इतिहास के साथ प्राचीन मंदिर श्री गोविंद भगवान घंटाघर के 113 वें विशाल रथयात्रा महोत्सव के तहत बीती रात्रि श्री गोविंद भगवान एंव माता प्रिया जी की विशाल रथयात्रा शहर में भारी धूमधाम एवं हर्ष के साथ निकाली गई तथा विशाल रथयात्रा का शुभारंभ विधिवत पूजा अर्चना एंव महाआरती श्रीमती गायत्री देवी धर्मपत्नी स्व. रामगोपाल वाष्र्णेय मिंगी वाले एवं श्रीमती कमलेश वाष्र्णेय धर्मपत्नी इंद्र कुमार गुप्ता तेल वालों द्वारा संयुक्त रूप से कर की गई। विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रिंस वाष्र्णेय(आई.ए.एस.), श्रीमती शिवांगी वाष्र्णेय (सी.ए.) अलीगढ़, श्रीमती कविता वाष्र्णेय धर्मपत्नी वीरेंद्र वाष्र्णेय पेट्रोल पंप वाले इस्लामनगर , श्रीमती बीना वाष्र्णेय धर्मपत्नी अजय वाष्र्णेय कोल्ड वाले, श्रीमती वंदना वाष्र्णेय धर्मपत्नी अनिल वाष्र्णेय तेल वाले, श्रीमती शशि वाष्र्णेय (पी.एल.) धर्मपत्नी विनोद वाष्र्णेय अलीगढ़, श्रीमती मीनू गुप्ता (एफ.सी.ए) धर्मपत्नी राज वाष्र्णेय, श्रीमती ममता वाष्र्णेय धर्मपत्नी गिरधर गोपाल वाष्र्णेय पेंट्स वाले थे। सभी अतिथियों का श्री गोविंद भगवान रथयात्रा महोत्सव अध्यक्ष श्रीमती दीप्ति वाष्र्णेय एवं उनकी पूरी टीम तथा मंदिर श्री गोविंद भगवान प्रबंध समिति द्वारा फूल मालाओं से लादकर एवं पटका पहनाकर जोरदार स्वागत किया गया। वहीं प्रतीक चिन्ह देकर उन्हें सम्मानित भी किया गया।


रथयात्रा में करीब तीन दर्जन अद्भुत एवं मनमोहक झांकियां तथा नामी गिरामी छह बैंड शामिल थे। विशाल रथयात्रा महोत्सव में शामिल झांकियों में सबसे ज्यादा आकर्षण का केंद्र श्रीनाथजी स्वरूप बने नन्हे बालक पुलकित वाष्र्णेय ने सभी का मन मोह लिया। नजारा ऐसा लग रहा था कि मानो साक्षात श्रीनाथजी धरा पर उतर आए हैं। जबकि अन्य आकर्षक झांकियों में राम मंदिर झांकी, केदारनाथ झांकी, फिरोजाबाद से आई लाइट वाली झांकी, इसके अलावा कई अन्य झांकियां भी आकर्षण का केंद्र बनी हुई थीं।


रथयात्रा महोत्सव में रथयात्रा के सबसे ज्यादा आकर्षण एवं हजारों-लाखों भक्तों का ध्यान अपनी ओर खींच रहे श्री गोविंद भगवान एवं माता प्रिया जी का विशाल रथ था जो कि रथ को फूलों एवं रगीन लाइटों से सजाया गया था और रथ में सवार श्री गोविंद भगवान एवं माता प्रिया जी सभी भक्तों को अपने अद्भुत दर्शन देकर अपनी कृपा की वर्षा कर भक्तों को धन्य एवं उनका उद्धार कर रहे थे। रथयात्रा महोत्सव में श्री गोविंद जी के रथ को भी खींचने के लिए वाष्र्णेय समाज के युवाओं में भारी होड़ लगी हुई थी और युवा भक्त रथ को खींचते हुए चल रहे थे। मान्यता है कि श्री गोविंद जी के विशेष रथ को खींचने से विशेष पुण्य लाभ प्राप्त होता है।


रथयात्रा में शामिल जयपुर से आया लंगूर बच्चों के मुख्य आकर्षण का केंद्र बना हुआ था। वही रथ यात्रा में कई संजीव चित्रों को प्रदर्शित करती झांकी भी लोगों के लिए बेहद उत्साह एवं रोमांचक बनी हुई थी। क्रेन पर सवार होकर नृत्य करते राधा कृष्ण के स्वरूप भी आकर्षण का केंद्र बने हुए थे। नयागंज बाजार में भव्य आतिशबाजी ने रथयात्रा में शामिल भक्तों के उमंग व उत्साह को और बढ़ा दिया। रथयात्रा में पूरे शहर में भगवान श्री गोविंद जी एवं माता प्रिया जी का दर्जनों स्थानों पर भक्तों द्वारा पुष्प वर्षा कर जहां स्वागत किया गया। वहीं उनकी आरती उतार कर व भोग प्रसादी अर्पण कर ठाकुर जी से आशीर्वाद कृपा के साथ सुख, समृद्धि, यश, वैभव, दिन प्रतिदिन उन्नति की प्रार्थना भक्तों द्वारा की गई।


श्री गोविंद भगवान की विशाल रथयात्रा पूरे शहर में भ्रमण करती हुई परंपरागत तरीके से देर रात बागला रोड स्थित श्री अक्रूर इंटर कॉलेज पर पहुंची, जहां पर ठाकुर जी के विश्राम स्थल अक्रूर इंटर कॉलेज में विश्राम के दौरान जोरदार ऐतिहासिक आतिशबाजी का प्रदर्शन किया गया। जबकि चरकुला नृत्य एवं राम दरबार की एलईडी मुख्य आकर्षण का केंद्र रही। वहीं देर रात ठाकुर जी माता प्रिया जी के साथ शहर भ्रमण करने के उपरान्त घंटाघर अक्रूर चैक स्थित अपने मंदिर गर्भग्रह पर आकर विराजमान हो गए।


शोभायात्रा में दीप्ति, सीमा, माधुरी, रजनी, प्रीति, अनुपम, अनुराधा, ऋतु, नम्रता, साक्षी, प्रीति वार्ष्णेय, पूजा, डिंपल, आरती, मीनाक्षी, कुसुम, तुलसी रानी, श्वेता, उषा, रितु, भावना, प्रभा, दीपिका, वंदना, समृद्धि, शिखा, सीमा, आशा, कल्पना, मंदिर अध्यक्ष मुकुल आनंद, मंदिर संरक्षक कृष्ण मुरारी वाष्र्णेय, लक्ष्मीकांत सर्राफ, मेला अध्यक्ष प्रतिनिधि नवीन गुप्ता, अतुल चैधरी, मदन गोपाल वाष्र्णेय, योगेश वाष्र्णेय शानू, रंजीत, वासुदेव, मनु आनंद, योगेंद्र कुल्ली, संचय नवीन, मनोज जीरा वाले, विपिन वाष्र्णेय, दीपक, संदीप वाष्र्णेय, राजीव घी वाले, अरविंद फ्लोर मिल वाले, सौरव दाल मिल वाले, शैलेंद्र सर्राफ, रूप किशोर जीके, प्रवीण वाष्र्णेय, कुलदीप शर्मा, राहुल गुप्ता ट्रांसपोर्टर, मास्टर शिवकुमार वाष्र्णेय, सुमित वाष्र्णेय कॉलोनाइजर, योगेश वाष्र्णेय सहपऊ वाले, करन गुप्ता, शुभम गुप्ता पत्रकार, प्रवीण खंडेलवाल, राजेंद्र नाथ चतुर्वेदी, नरेंद्र सिंह, गोपाल कृष्ण शर्मा, ललतेश गुप्ता, दीपक वाष्र्णेय, मिहिर वाष्र्णेय, कन्हैयालाल वाष्र्णेय, अनिल वाष्र्णेय तेल वाले, भोला यादव, मयंक गुप्ता (गुप्ता मैनशन), संचय नवीन के अलावा शहर के वाष्र्णेय समाज के लोगों की भारी भीड़ एवं शहर की धर्मप्रेमी जनता भारी संख्या में शामिल थी।

dainiklalsa
Author: dainiklalsa

Leave a Comment

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर