Explore

Search
Close this search box.

Search

July 15, 2024 10:12 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

4 वर्ष में भी मेडिकल काॅलेज के लिए भूमिका नहीं हो सका है चयन-मानव कल्याण

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

मानव कल्याण ने मेडिकल काॅलेज एवं बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के लिए के लिए मुख्यमंत्री व डीएम लिखा पत्र


हाथरस-10 जुलाई। मानव कल्याण सामाजिक संस्था की आवश्यक बैठक संस्थापक राजीव वाष्र्णेय के आवास धर्मकुंज पुराना मिल कंपाउंड पर आयोजित की गई। जिसमें प्रमुख रूप से हाथरस में मेडिकल कॉलेज बनने के संदर्भ में चर्चा की गई।
बैठक में संस्थापक राजीव वाष्र्णेय, जिला महामंत्री कन्हैया वाष्र्णेय, नगर अध्यक्ष नरेश अग्रवाल, नगर महामंत्री कृष्ण गोपाल केजी ने बताया कि हाथरस में बागला अस्पताल में किसी भी प्रकार के एक्सीडेंट, गंभीर बीमारियों के मरीज आने पर रेफर स्लिप पकड़ा दी जाती है और उनको अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर कर दिया जाता है। जिसके कारण एक्सीडेंट आदि के घायलों को समय से इलाज न मिलने के कारण अनेकों लोगों की असमय ही मृत्यु हो जाती है। यदि ऐसे मरीजों का हाथरस में ही इलाज संभव हो तो उन लोगों की जीवन रक्षा की जा सकती है। उन्होंने बताया कि अनेकों बार मुख्यमंत्री एवं जिलाधिकारी के माध्यम से ज्ञापन देकर हाथरस में मेडिकल कॉलेज की मांग की गई है, लेकिन घोषणा होने के लगभग चार वर्ष हो जाने के उपरांत भी अभी तक मेडिकल कॉलेज की भूमि का चयन नहीं हो पाया है। अतः यह फैसला लिया गया कि पुनः एक बार मुख्यमंत्री को जिलाधिकारी के माध्यम से ऑनलाइन ज्ञापन भेजा जाएगा।
मानव कल्याण के संरक्षक वरिष्ठ अधिवक्ता राधामाधव शर्मा, मानव कल्याण के जिला वरिष्ठ उपाध्यक्ष राजेंद्र वाष्र्णेय द्वारा कहा गया कि हाथरस में स्वास्थ्य विभाग के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की जाती है। यहां के सरकारी हॉस्पिटल बागला अस्पताल में कोई भी एक्सीडेंट या गंभीर मरीज आता है तो उसको प्राथमिक उपचार भी नहीं दिया जाता तथा रेफर स्लिप पकड़ा कर अपना पिंड छुड़ाते हैं। हाथरस में प्राइवेट हॉस्पिटल के नाम पर भी कोई ऐसा हॉस्पिटल नहीं है। एक्सीडेंट केस में या गंभीर बीमारियों में उसको उचित उपचार मिल सके। उक्त परिस्थितियों में अनेकों लोग असमय ही मृत्यु को प्राप्त हो जाते हैं। हाथरस में मुख्यमंत्री द्वारा मेडिकल कॉलेज की घोषणा की गई थी जिसको लगभग 4 वर्ष हो चुके हैं। लेकिन अभी तक मेडिकल कॉलेज के लिए स्थानीय प्रशासन भूमि का चयन ही नहीं कर पाया है। अभी कुछ दिन पूर्व जनपद के सिकंद्राराऊ तहसील में एक सत्संग में भगदड़ मचने के कारण 121 लोगों की दर्दनाक मृत्यु हो गई तथा दुर्घटना में घायल लोगों को बागला हॉस्पिटल में अव्यवस्थाओं का सामना करना पड़ा तथा उचित इलाज नहीं मिला। मुख्यमंत्री एवं जिलाधिकारी शीघ्र से शीघ्र मेडिकल कॉलेज के लिए भूमि का चयन कर मेडिकल कॉलेज बनवाने के लिए सार्थक प्रयास करें। मानव कल्याण सामाजिक संस्था सभी मृतकों के प्रति संवेदना प्रकट करती है तथा भविष्य में इस प्रकार की दुर्घटना ना हो ऐसी कामना करती है।
इस अवसर पर मानव कल्याण सामाजिक संस्था के राजीव वाष्र्णेय, कन्हैया वाष्र्णेय, नरेश अग्रवाल, कृष्ण गोपाल केजी, राजेंद्र वाष्र्णेय, बालप्रकाश वाष्र्णेय, वरिष्ठ एड. राधामाधव शर्मा, नीरजकांत शर्मा एड., नरेंद्र कुमार, शैलेंद्र शर्मा एड़., सचिन गौड एड, नरेंद्र सिंह एड, वरिष्ठ पत्रकार महादेव शरण अटल, योगेंद्र वाष्र्णेय, सचिन गौड, राम वाष्र्णेय, ललित सिसोदिया, राजकुमार वर्मा, अभनी शर्मा, रामकुमार शर्मा, अनिल सिंह आदि उपस्थित थे।

dainiklalsa
Author: dainiklalsa

Leave a Comment

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर