Explore

Search
Close this search box.

Search

June 17, 2024 12:37 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

जनपद न्यायाधीश व न्यायिक अधिकारियों ने किया वृक्षारोपणःबांटे सकोरा

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email


हाथरस-5 जून। अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस के अवसर पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में जनपद न्यायाधीश की अध्यक्षता में जनपद न्यायालय प्रांगण में अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस के अवसर पर वृक्षारोपण का कार्यक्रम आयोजित कर जनपद न्यायाधीश सतेन्द्र कुमार द्वारा वृक्षारोपण किया गया।
इसी क्रम में जनपद में कार्यरत न्यायिक अधिकारीगणों में अध्यक्ष, स्थायी लोक अदालत शंकरलाल, प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय रविन्द्र कुमार, विशेष न्यायाधीश एस.सी.एस.टी. रामप्रताप सिंह, अपर जनपद न्यायाधीश कोर्ट संख्या-2 त्रिलोकपाल सिंह, अपर जनपद न्यायाधीश कोर्ट संख्या-3 हर्ष अग्रवाल,अपर जनपद न्यायाधीश, कोर्ट संख्या-5 विजय कुमार, अपर जनपद न्यायाधीश/एफ.टी.सी. कोर्ट संख्या-1श्रीमती माधवी सिंह, अपर जनपद न्यायाधीश एफ.टी.सी. कोर्ट संख्या-2 महेन्द्र कुमार रावत, अपर जनपद न्यायाधीश/सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण प्रशान्त कुमार व मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट जयहिन्द नाथ सिंह, सिविल जज(व.प्र.) मुन्नालाल, अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट दीपक नाथ सरस्वती, सिविल जज(व.प्र.) एफ.टी.सी.सुश्री अनु चैधरी, सिविल जज(क.प्र.) सुश्री श्रुति त्रिपाठी, न्यायिक मजिस्ट्रेट सुश्री पूनम कुमारी चैहान, सिविल जज(क.प्र.) एफ.टी.सी. कोर्ट संख्या-2 श्रीमती दीपा सैनी, सिविल जज(क.प्र.)/एफ.टी.सी. कोर्ट संख्या-1शिवजी यादव द्वारा वृक्षारोपण किया गया।
वृक्षारोपण के समय जनपद न्यायाधीश द्वारा सभी को जानकारी देते हुए बताया कि आज सारा विश्व विकारों से जूझ रहा है। हम दूसरों के कार्य को देखते हैं, अपनी जिम्मेदारियों को नहीं देखते है। उन्होंने कहा कि प्रदूषण कई प्रकार का होता है, जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण। उन्होंने कहा कि यदि हम 1945 की बात करें तो नाका साकी में आज भी बच्चे बीमारियों से ग्रसित है। उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे उद्योगों का विकास हुआ है, वैसे-वैसे वहाॅ प्रदूषण बढ़ा है। पर्यावरण संतुलन पर उच्चतम न्यायालय द्वारा भी कड़े निर्देश जारी किये जा चुके है। उन्होंने कहा कि हम सभी को प्रतिज्ञा लेनी होगी कि हम पौलीथिन का इस्तेमाल नहीं करेंगे, हम अपने को स्वयं जाग्रत करेगें, तभी हमारा देश प्रदूषण मुक्त होगा। कानून आपकी मदद करता है यदि आप सही हो। सभी को कम से कम एक-एक वृक्ष लगाना चाहिए। हमको अपनी सोच बदलनी होगी। उन्होंने कहा कि जैसे हमारी सोच होगी वातावरण वैसा ही होगा। यदि हमारी सोच नैगेटिव हो तो परिणाम भी नकारात्मक होगें। यदि हमारी सोच पाॅजीटिव है तो उसके परिणाम भी सकारात्मक होगें।
इसके अतिरिक्त जनपद न्यायाधीश, सतेन्द्र कुमार द्वारा हर घर सकोरा, चिड़ियों का बसेरा कार्यक्रम के तहत समस्त न्यायिक अधिकारीगण एवं कर्मचारीगण को सकोरा वितरित कर उनको घर की छत एवं छायादार स्थान पर सकोरों को रख कर पशु-पक्षियों के लिए पानी रखने हेतु कहा गया।
इस अवसर पर जनपद न्यायालय के समस्त कर्मचारीगण, वन विभाग के क्षेत्रीय वनाधिकारी, अमित मोहन गौड़ वन दरोगा, भवन भूषण शर्मा, अली हसन, आशीष कुमार व मंजू सिंह एवं वन रक्षक अंकिता तिवारी मौजूद थे।

dainiklalsa
Author: dainiklalsa

Leave a Comment

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर