Explore

Search
Close this search box.

Search

July 23, 2024 5:09 pm

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

किसी भी पटल पर अनावश्यक पत्रावलियों को न रखें लंबित- आयुक्त

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

राजस्व वादों के निस्तारण की प्रगति खराब होने पर आयुक्त ने जतायी नाराजगी: अगले माह तक स्थिति सुधारें

हाथरस- 24 जून।जनपद के विकास एवं जनहित में राजस्व वसूली में तेजी लाई जाए। किसी भी पटल पर अनावश्यक पत्रावलियों को लम्बित न रखा जाए।
आयुक्त अलीगढ़ मण्डल अलीगढ़ श्रीमती चैत्रा वी. ने जिलाधिकारी अर्चना वर्मा व अपर आयुक्त कंचन सरन के साथ कलेक्ट्रेट सभागार में कर करेत्तर, राजस्व वसूली की प्रगति की समीक्षा बैठक करते हुए संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्धारित लक्ष्यों को समय से पूर्ण करने के निर्देश दिए।
आयुक्त श्रीमती चैत्रा वी. ने विभागीय अधिकारियों को उप जिलाधिकारी/क्षेत्राधिकारी पुलिस व संबंधित विभागों से समन्वय स्थापित करते हुए प्रवर्तन की कार्यवाही कर वसूली करने के निर्देश दिए। उन्होंने मुख्य देय, विविध देयों की वसूली, कर करेत्तर तथा राजस्व वसूली की विभागवार समीक्षा करते हुए कहा कि निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष वसूली शत-प्रतिशत करना सुनिश्चित करें।
सर्वप्रथम कर करेत्तर एवं राजस्व वसूली की समीक्षा की गयी, जिसमें मण्डलायुक्त ने वाणिज्य कर विभाग, स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन विभाग, आबकारी विभाग, परिवहन विभाग, विद्युत देय, नगर निकाय विभाग, मुख्य देय, विविध देय, वन विभाग, खनन विभाग, सिंचाई विभाग एवं मण्डी विभाग में वसूली की मासिक प्रगति का जायजा लिया गया। राजस्व विभाग की समीक्षा के दौरान राजस्व वादों के निस्तारण की प्रगति खराब होने पर आयुक्त ने नाराजगी व्यक्त करते हुये सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि राजस्व संहिता के अन्तर्गत अधिक से अधिक लम्बित वादों का निस्तारण पूर्ण किया जाये। किसी भी मुकदमे को अनावश्यक रूप से लंबित न रखा जाए मानक के अनुसार मुकदमे का निस्तारण किया जाए। मामलों के निस्तारण में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों पर कार्यवाही की जाएगी। अगले माह तक स्थिति सुधार ली जाए अन्यथा लापरवाह अधिकारी के खिलाफ बड़ी कार्यवाही की जाएगी। मण्डलायुक्त ने उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि वसूली से सम्बन्धित मासिक लक्ष्यों को सभी विभाग शत-प्रतिशत पूर्ण करें, जिससे वित्तीय लक्ष्य की प्राप्ति समय से पूर्ण हो सके। कर करेत्तर एवं राजस्व वसूली में जिस विभाग द्वारा लापरवाही बरती जाएगी उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी।
समीक्षा बैठक के दौरान विभागों द्वारा की गई वसूली के संबंध में विभागीय अधिकारियों ने क्रमशः जानकारी देते हुए बताया कि वार्षिक लक्ष्य के सापेक्ष माह मई 2024 तक की अवधि में लक्ष्य के सापेक्ष की गयी वसूली का वाणिज्य देय में 61.01 प्रतिशत, स्टाम्प देय में 80.45 प्रतिशत, आबकारी देय में 83.87 प्रतिशत, विद्युत देय में 63.64 प्रतिशत, परिवहन में 81.60 प्रतिशत, नगर विकास में 102.34 प्रतिशत, वन विभाग में 837.09 प्रतिशत, अलौह खनन में 33.44 प्रतिशत, भू-राजस्व में 765.56 प्रतिशत, लोक निर्माण विभाग में 1.04 प्रतिशत, विधिक वाट एवं माप में 62.90 प्रतिशत की राजस्व वसूली के बारे में विभागवार जानकारी दी।
बैठक के दौरान अपर आयुक्त कंचन सरन, जिलाधिकारी अर्चना वर्मा, अपर जिलाधिकारी डा. बसंत अग्रवाल, अपर जिलाधिकारी न्यायिक शिव नारायण, प्रभागीय वनाधिकारी, समस्त उप जिलाधिकारी, जिला सूचना अधिकारी, ई.डी.एम., मण्डलीय/जनपदीय अधिकारी आदि उपस्थित थे।

dainiklalsa
Author: dainiklalsa

Leave a Comment

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर