Explore

Search
Close this search box.

Search

July 15, 2024 10:07 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

कब्र से हिंदू युवक का शव अभी नहीं निकाला भाई का कराया जा रहा डीएनए टेस्ट

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

हाथरस-1 मार्च। गत 26 फरवरी को जिस हिंदू युवक का शव मुस्लिम समझकर कब्रिस्तान में दफन कर दिया गया था। अभी उसके परिवार के लोगों को उसकी डेडबॉडी नहीं मिली है। मृतक के भाई का डीएनए टेस्ट कराने के लिए ब्लड का नमूना आज आगरा प्रयोगशाला भेजा गया है। इधर मृतक के भाई ने प्रशासन पर लेट लतीफी करने का आरोप लगाया है।मृतक के भाई को यह भी आशंका है कि मृतक अमिता को ट्रेन में जहरखुरानी का शिकार बनाया गया और उसकी वजह से उसके भाई की मौत हुई। पोस्टमार्टम में हिंदू युवक को मुस्लिम कैसे बता दिया गया। इसकी जांच के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने जांच कमेटी बना दी है।
उल्लेखनीय है कि गत 23 फरवरी को सहपऊ कोतवाली क्षेत्र के गांव खेरिया में रेलवे ट्रैक से थोड़ा सा आगे करब में एक युवक का शव बरामद हुआ था। 40 साल के मृतक की पहचान नहीं हो पाई थी तो पुलिस ने उसके शव को पोस्टमार्टम गृह भिजवा दिया था। पोस्टमार्टम में बताया गया था कि मृतक मुस्लिम है। इसके बाद 26 फरवरी को पुलिस ने समाजसेवियों के सहयोग से मुरसान गेट स्थित कब्रिस्तान में उसके शव को दफन करवा दिया था।
उक्त मामले में कल मृतक के परिवार के लोग उसको खोजते-खोजते यहां आए। फोटो, शरीर पर मिले चिन्ह और कपड़ों के आधार पर इन लोगों ने मृतक की पहचान कर ली। मृतक की पहचान 40 वर्षीय अमिता हरिजन पुत्र रामविलास निवासी लुमडिंग जिला होजई असम के रूप में हुई है। अमित फ्रिज, एसी का मिस्त्री था और उसकी ससुराल दिल्ली में है। वह गत 18 फरवरी को घर से अपनी ससुराल जाने के लिए निकला था लेकिन वह वहां नहीं पहुंचा था। उसके ससुराल ना पहुंचने व फोन बंद आने पर परिजनों की चिंता हुई तो उसकी तलाश की गई।
कल परिवार के लोगों द्वारा उसे ढूंढते हुए थाना सहपऊ पहुंचे तो उन्हें जब यह पता चला कि उनके भाई का शव कब्रिस्तान में दफन है तो उन्होंने यह मांग की कि शव को निकलवाया जाए। वह शव को अपने साथ ले जाना चाहते हैं और हिंदू रीति रिवाज से शव का अंतिम संस्कार करेंगे। इसे लेकर उन्होंने प्रशासन को प्रार्थना पत्र भी दिया, लेकिन अभी तक कब्र से डेडबॉडी नहीं निकाली गई है।
मृतक के भाई का आरोप है कि प्रशासन उनके मामले में लेटलतीफी कर रहा है। अब इतने दिन बाद उनके भाई की डेडबॉडी में क्या बचेगा। उसका कहना है कि जब वह हर तरह से शव की पहचान कर चुके हैं तो प्रशासन यह टेस्ट आदि क्यों करा रहा है और बिना वजह समय बर्बाद क्यों कर रहा है। उसने यह आशंका भी जताई है कि उसके भाई को ट्रेन में जहरखुरानी का शिकार बनाया गया। लूटपाट के बाद उसके भाई की हत्या कर दी गई। इधर पुलिस ने मृतक के भाई का डीएनए परीक्षण करने के लिए ब्लड का नमूना फोरेंसिक जांच लैब में भेजा है। उक्त मामले में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मंजीत सिंह ने जांच कमेटी बनाई है। उनका कहना है कि पूरे प्रकरण की जांच कराई जा रही है। जांच रिपोर्ट के आधार पर कार्यवाही होगी।

dainiklalsa
Author: dainiklalsa

Leave a Comment

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर