Explore

Search
Close this search box.

Search

June 21, 2024 5:44 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

परशुराम जी ब्रह्मबल, तपबल, पराक्रम, पौरुष और शौर्य के प्रतिमान हैं-राजीव शर्मा

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

भगवान परशुराम जी सदा न्याय के लिए युद्ध करते रहे, कभी भी अन्याय को बर्दाश्त नहीं किया। अपने माता पिता के लिए असीमित श्रद्धा रखने वाले भगवान परशुराम ने पिता का अपमान करने वाले अपने युग के सबसे बड़े वीर सहस्त्रबाहु को भी मौत के घाट उतार कर उसकी सेना को समाप्त कर दिया।
यह बातें शनिवार को दस मई को अक्षय तृतीया के दिन मनाए जाने वाली भगवान श्री परशुराम जयंती के पूर्व संध्या पर एक प्रेस वार्ता के दौरान राजीव शर्मा (लल्ला भैया) एवं खगेन्द्र शास्त्री ने संयुक्त रूप सेे बताई। उन्होंने कहा कि भगवान परशुराम ब्रह्मबल, तपबल, पराक्रम, पौरुष और शौर्य के प्रतिमान हैं। अतः ब्राह्मणों के ही नहीं सनातन संस्कृति में विश्वास रखने वाले प्रत्येक के पूज्य परशुराम हैं। भगवान परशुराम तथा भगवान राम और भगवान बलराम के बिना संस्कृति शून्य है। हनुमान जी की ही तरह भगवान परशुराम चिरंजीवी और अमर हैं। उन्होंने बताया कि अक्षय तृृतीया को बस स्टैड के सामने श्री ब्राह्मण धर्मशाला में सुबह भगवान श्री परशुराम का अभिषेक होगा। दस बजे श्रीरामचरित मानस तथा ग्यारह मई को श्री रामचरित मानस का समापन एक बजे होगा। वहीं दो बजे परस्पर विप्र परिचय एवं शाम को सात बजे भजन संध्या का आयोजन किया जाएगा। दिनांक बारह मई दिन रविवार को प्रातः नौ बजे अभिषेक, हवन, पूजन, संत विप्र पूजन एवं प्रसादी भडारा का आयोजन होगा। इस दौरान तमाम विप्र वंधु मौजूद थे।

sunil sharma
Author: sunil sharma

Leave a Comment

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर