Explore

Search
Close this search box.

Search

July 23, 2024 4:47 pm

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

सासनी में हुआ कवि चौपाल का आयोजन मिट्टी के मकां वालों के यहां अब कम ही लोग ठहरते हैं

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

शुक्रवार को बालाजी धाम कॉलोनी स्थित शैलेश अवस्थी के आवास पर उनके संयोजन में कवि चौपाल का सफल आयोजन किया गया। कवि चौपाल की अध्यक्षता अवकाश प्राप्त शिक्षक देशराज सिंह ने की जब कि मानवाधिकार एवं सामाजिक संगठन के प्रांतीय उपाध्यक्ष मुख्य अतिथि व अवकाश प्राप्त पुलिस उप निरीक्षक रामचरन सिंह बघेल विशिष्ट अतिथि के रूप में कवि चौपाल में मौजूद रहे।
कवि चौपाल का कुशल संचालन व्यंग्यकार कवि वीरेंद्र जैन नारद ने किया।कार्यक्रम का शुभारंभ अध्यक्ष मुख्य अतिथि व विशिष्ठ अतिथि ने मां सरस्वती की छवि चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित करके किया इसके उपरांत कवि अशोक मिश्रा ने सरस्वती वंदना के सस्वर पाठ के बाद भ्रूण हत्या पर मार्मिक कविता का रसपान कराया-एक अजन्मी बेटी ने मां को खत में यह लिखवाया कांप उठी हूं जब से तुमने अल्ट्रासाउंड करवाया ।इसके बाद कवि वीरेंद्र जैन नारद ने सुनाया-किसकी राहें तक रहा है किसका तुझको इंतजार मिट्टी के मकां वालों के यहां अब कम ही लोग ठहरते हैं इसके बाद कवयित्री नेहा वार्ष्णेय ने काव्य पाठ कियाअब कहां सुनने को मिलती हैं नज्म रूबाईयां हो गई खामोश जैसे प्यार की शहनाईयां। इसके बाद कवि विष्णु कुमार शर्मा ने सुनाया घर की शान रही घरवाली घर को स्वर्ग बनाती है तत्पश्चात कवि रामनिवास उपाध्याय ने न‌ए अंदाज में सुनाया-कलम ही जब कत्ल करना चाहती है खंजरें भी म्यान रहना चाहती हैं। इसके बाद कवि वीरपाल सिंह वीर ने सुनाया -देख तेरे संसार की हालत क्या हो गई भगवान ऊंट गधा ना खच्चर बदले बदल गया इंसान इसके बाद कवि शैलेश अवस्थी ने सुनाया-चाय बुला रही है कवि को रिझा रही है जज्बात लेके दिल से कविता लिखा रही है चाय बुला रही है. रविराज सिंह ने सुनाया अंगीठी की आंच जब भी धसक जाती है और दाल अधपकी रह जाती है तब चुन्नू की मां तुम्हारी बहुत याद आती है ।इसके बाद नरेंद्र मोहन गुप्ता ने पत्नी व्यथा को काव्य में पिरोया। काव्य प्रेमियों में धर्मेंद्र यदुवंशी जगबीर सिंह वीरेंद्र सिंह सोलंकी कल्प अवस्थी सृष्टि अवस्थी जगदीश बाबा हरविंदर सिंह रघुराज शर्मा डॉक्टर कासिम अली सभासद अफजल खान मयंक रविकांत शीलेंद्र सिंह आदि मौजूद रहे। अध्यक्षीय उद्बोधन के बाद कवि चौपाल का औपचारिक समापन हो गया।

sunil sharma
Author: sunil sharma

Leave a Comment

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर